electronics

AdSense code

games-2

search engine

Custom Search

Friday, May 29, 2015

मति चार प्रकार की




मति चार प्रकार की होती है। सुमति, कुमति, दुर्मती और महामति। मेरा फायदा हो या न हो, दुसरे का अवश्य होना चाहिए, यह सुमति है। मेरा फायदा न हो तो दुसरे का भी न हो, यह कुमति है। मेरा कोई लाभ नहीं परन्तु दुसरे का नुक्सान अवश्य होना चाहिए , यह दुर्मती है। और महामति होती है की मेरा भले ही नुकसान हो किन्तु दुसरे का फायदा अवश्य होना चाहिए यह देवताओं की मति है। 
परम पूज्य श्री सुधान्शुजी महाराज 

No comments:

ad

link

http://gan.doubleclick.net/gan_click?lid=41000000024289215&pubid=21000000000368907

kmart

kmart

kmart

lg moniter

kmart ad

kmart ad

kmart ad

ad

http://gan.doubleclick.net/gan_click?lid=41000613802215657&pubid=368907

About Me

My photo
parampujy Guruvar Sudhanshuji Maharaj ka Shishay

Samsung 60" Series 6 LED Black Flat Panel HDTV - UN60ES6100